केजीएमयू के नर्सिंग विद्यार्थियों के लिए लाइब्रेरी में स्‍थापित किया गया वांग्‍मय साहित्‍य

-ऋषि वांग्‍मय साहित्‍य स्‍थापना अभियान का 331वां सेट स्‍थापित

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। गायत्री ज्ञान मंदिर इंदिरा नगर, लखनऊ के विचार क्रान्ति ज्ञान यज्ञ अभियान के अन्तर्गत वांग्मय साहित्य का 331वां सेट इंस्टीट्यूट ऑफ नर्सिंस साइंस, के.जी.एम.यू. लखनऊ के केन्द्रीय पुस्तकालय में स्‍थापित किया गया।

बुधवार को स्‍थापित किये गये गायत्री परिवार के संस्थापक युगऋषि पं0 श्री राम शर्मा आचार्य द्वारा रचित सम्पूर्ण 79 खण्डों के वांग्मय साहित्य को गायत्री परिवार रचनात्मक ट्रस्ट, गायत्री ज्ञान मंदिर इन्दिरा नगर की सक्रिय कार्यकत्री मधु अग्रवाल ने अपने पति स्व. दिनेश अग्रवाल तथा अपने सास-ससुर स्व. वीर कुमारी अग्रवाल, स्व. प्रेम चन्द्र अग्रवाल की स्मृति में संस्थान के पुस्तकालय को भेंट किया। इस मौके पर उदयभान सिंह ने अपने पिता बैजनाथ सिंह की स्मृति में सभी छात्र-छात्राओं एवं संकाय सदस्यों को ‘‘युग निर्माण योजना’’ पत्रिका भेंट की।

इस अवसर पर वांग्‍मय स्थापना अभियान के मुख्य संयोजक उमानंद शर्मा ने वांग्‍मय साहित्य पर प्रकाश डालते हुए कहा कि सद्ज्ञान व्यक्ति को नर से नारायण बना सकता है, महापुरुष की वाणी और उनके लिखे गये साहित्य से सद्ज्ञान की प्राप्ति होती है, यह साहित्य भी युग ऋषि द्वारा रचित सम्पूर्ण वांग्‍मय है।

इस अवसर पर डॉ नरेन्द्र देव छात्र-छात्राओं को निरोगी जीवन के ऋषि सूत्र दिये एवं पी.डी. सारस्वत ने ऋषि संदेश दिया। इस अवसर पर वांग्‍मय स्थापना अभियान के मुख्य संयोजक उमानंद शर्मा, डॉ नरेन्द्र देव, अनिल भटनागर, संस्थान के डॉ. अपजित कौर (डीन) तथा संस्थान की प्रधानाचार्या रश्मि जॉन और उदयभान सिंह के साथ सहित संकाय सदस्य एवं छात्र-छात्रायें मौजूद थे।