Thursday , August 25 2022

मेट्रो संचालन के दौरान संक्रमण से बचने की पुख्‍ता तैयारी कर रहा यूपी मेट्रो

-कर्मचारियों को सावधानियां बरतने के बारे में दी विस्‍तार से जानकारी

लखनऊ। हालांकि अभी यह साफ नहीं है कि मेट्रो रेल चलाने की अनुमति कब तक मिलेगी लेकिन इसकी तैयारी शुरू कर दी गयी है। इस सम्‍बन्‍ध में उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (यूपीएमआरपीएल) द्वारा आज ट्रांसपोर्ट नगर स्थित मेट्रो डिपो के सेंटर ऑफ एक्सीलेंस फॉर ट्रेनिंग (सीओईटी) में एक विशेष सत्र का आयोजन किया गया। यह विशेष बैठक कुमार केशव, प्रबंध निदेशक, यूपीएमआरसीएल की अगुवाई में हुई, जिसमें देशव्यापी लॉकडाउन के बाद मेट्रो सेवाओं की संचालन निरंतरता के लिए तैयारियां और उनसे संबंधित विभिन्न पहलुओं पर विस्तार से चर्चा की गई।

मेट्रो के जनसम्‍पर्क विभाग द्वारा जारी विज्ञप्ति में बताया गया है कि उत्तर प्रदेश मेट्रो मास रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (एमआरटीएस) का एक रूप है और लखनऊ के लोगों को निरंतर मेट्रो ट्रेन सेवाएं प्रदान कर रहा है। कोविड-19 महामारी के प्रकोप के मद्देनजर, देशव्यापी लॉकडाउन के समर्थन में मेट्रो सेवाओं को पूर्णतः निलंबित कर दिया गया था, लेकिन मेट्रो कर्मचारी सेवाओं को फिर से शुरू करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। कुमार केशव, प्रबंध निदेशक, यूपीएमआरसी के गतिशील नेतृत्व के अंतर्गत, सभी मेट्रो अधिकारी और कर्मचारी परिचालन मेट्रो प्रणाली के रखरखाव के लिए निरंतर तत्पर हैं, जिससे यात्रियों को कोई असुविधा न हो। यात्रियों की सुरक्षा और स्वच्छता के लिए यूपीएमआरसी द्वारा कई एहतियाती उपाय और व्यवस्था की गई है ताकि उन्हें एक सहज और सुरक्षित यात्रा प्रदान की जा सके।

प्रबंध निदेशक, कुमार केशव विशेष संबोधन में जिन विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डाला गया, उनमें स्टेशन परिसर और मेट्रो ट्रेनों को पूरी तरह से सैनिटाइज करना शामिल था। कुमार केशव ने यात्रियों के संपर्क में आने वाले सभी स्थान जैसे- टिकट काउंटर, टिकट वेंडिंग मशीन, कस्टमर केयर सेंटर, प्रवेश निकास द्वार, एएफसी मशीन, गाड़ियों के अंदर हैंडिल, एस्केलेटर की हैंड्रिल इत्यादि, के नियमित अंतराल पर (हर चार से पांच घंटे) सैनिटाइजेशन पर जोर दिया और “अडॉप्ट मेट्रो विद सोशल डिस्टेंसिंग” का नारा देते हुए सभी यात्रियों से आपस में उचित दूरी बनाए रखने की अपील की। 

उन्होंने परिचालन अधिकारियों और कर्मचारियों को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिये कि‍ स्टेशन पर तैनात सभी कर्मचारी जैसे- स्टेशन कंट्रोलर (एससी), कस्टमर केयर असिस्टेंट (सीआरए) और सुरक्षाकर्मी मास्क और दस्ताने पहनकर तथा उचित दूरी बनाते हुए ही यात्रियों के संपर्क में आएं। यूपीएमआरसी ने मेट्रो स्टेशनों के प्रत्येक वॉशरूम में पहले से ही टिशू पेपर और सैनिटाइजर की उपलब्धता की व्यवस्था की है। मेट्रो परिसर और ट्रेन के अंदर साफ-सफाई बनाए रखने पर भी विशेष जोर दिया जा रहा है। कुमार केशव ने मेट्रो कर्मचारियों को भी सलाह दी कि वे यात्रियों को गोस्मार्ट कार्ड का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित करें जो कि वायरस के संक्रमण को कम करने के साथ संपर्क रहित यात्रा का एक उचित माध्यम है। यात्री गो स्मार्ट कार्ड को ऑनलाइन रिचार्ज भी कर सकते हैं और बिना किसी के संपर्क में आए इसका उपयोग कर सुरक्षित यात्रा भी कर सकते हैं। लखनऊ मेट्रो स्टेशन परिसर को हर 4 से 5 घंटे पर सैनिटाइज किया जाएगा और हर मेट्रो ट्रेन को भी दिन में दो बार सेनीटाइज किया जाएगा।

यूपीएमआरसी ऑडियो विजुअल संदेशों के माध्यम से कोरोना वायरस (कोविड-19) से बचने के लिए क्या करें-क्या ना करें तथा इसके रोकथाम के लिए ध्यान में रखने वाली बातों को अपने आधिकारिक फेसबुक और ट्विटर अकाउंट @OfficialUPMetro पर भी जनता से साझा करता रहा है|

उत्तर प्रदेश मेट्रो ने सभी से अपील की कि कोविड-19 महामारी से बचाव के लिए अपने आसपास स्वच्छता, सामाजिक दूरी का अभ्यास करें तथा खुद को और अपने परिजनों को इस वैश्विक महामारी से सुरक्षित रखें।