Sunday , November 27 2022

एक मोटापे का इलाज कराइये, अनेक रोगों में लाभ पाइये

-लोहिया आयुर्विज्ञान संस्‍थान में विश्‍व मोटापा विरोधी दिवस पर कार्यक्रम आयोजित

सेहत टाइम्‍स

लखनऊ। जो लोग जरूरत से ज्‍यादा मोटे होते हैं या फि‍र उन्‍हें मोटापे संबंधित अन्‍य समस्‍याएं जैसे मधुमेह मेलेटस, उच्च रक्तचाप, हृदय रोग, लिपिड विकार, स्लीप एपनिया, मूत्र तनाव असंयम, जोड़ों की बीमारी आदि हैं, उन्‍हें बेरियाट्रिक सर्जरी कराने की सलाह दी जाती है, क्‍योंकि अगर मोटापा ठीक हो जाता है, तब व्यक्ति को अन्य सभी समस्याओं में भी लाभ होगा।

यह बात शनिवार 26 नवम्‍बर को डॉ राम मनोहर लोहिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज में आयोजित मोटापा जागरूकता कार्यक्रम के साथ विश्व मोटापा विरोधी दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में बेरिएट्रिक और मेटाबॉलिक यूनिट के प्रभारी प्रोफेसर (डॉ.) अंशुमन पांडे ने कही। उन्‍होंने बताया कि मॉर्बिड ओबेसिटी एक गंभीर रोग है जिसे विभिन्न प्लेटफार्मों पर संबोधित किया जाता है। अत्यधिक वजन से संबंधित स्वास्थ्य और जीवन शैली की समस्याओं के बारे में लोगों को जागरूक किया जाता है। उन्‍होंने कहा कि विश्व मोटापा-विरोधी दिवस (26 नवंबर) ऐसा ही एक दिन है। इस वर्ष की थीम है “रुग्ण मोटापे से लड़ना और जीवन की गुणवत्ता में लगातार सुधार”। उन्‍होंने बताया कि 26 नवंबर आम जनता को रुग्ण मोटापे या तीसरी अवस्‍था के  मोटापे और इसके नुकसान के बारे में लोगों में जागरूकता फैलाने के लिए समर्पित है।

डॉ अंशुमन पांडे ने बताया कि विभाग में सफलतापूर्वक एक समर्पित बेरिएट्रिक और मेटाबॉलिक सर्जरी यूनिट चला रहे है, जहां मोटापे से संबंधित बीमारियों से पीड़ित रोगियों के लिए समग्र सहायता की पेशकश की जाती है। उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं है कि सिर्फ अमीर व्‍यक्ति ही मोटे हो सकते हैं।

उन्‍होंने कहा कि मोटापा एक गंभीर स्वास्थ्य महामारी है और अत्यधिक शरीर में वसा की विशेषता है, जो आनुवंशिक और पर्यावरणीय कारक द्वारा परिभाषित होती है, जो परहेज़ से नियंत्रित करना मुश्किल होता है। अत: यदि मोटापा ठीक हो जाए तो व्यक्ति को अन्य सभी समस्याओं से लाभ होगा। अब मोटापे की समस्या बढ़ रही है, क्योंकि एनएफएचएस-4 (2015-16) में 21% महिलाएं और 19% पुरुष अधिक वजन वाले या मोटे (बीएमआई ≥ 25.0 किग्रा/मी2) पाए गए हैं। भारत दुनिया की मधुमेह राजधानी भी बनता जा रहा है।

• अधिक वजन की उपस्थिति और प्रभाव के बारे में जागरूकता बढ़ाएं और इसके बारे में क्या किया जा सकता है।

• वज़न संबंधी कलंक के समर्थन के साथ सदस्यों की सहभागिता बढ़ाएँ

• अधिक वजन के परिणामस्वरूप उत्पन्न होने वाली बाधाओं को दूर करने में लोगों की मदद करें, जो उन्हें आवश्यक चिकित्सा उपचार प्राप्त करने से रोक सकता है।

• ऑपरेशन से पहले और ऑपरेशन के बाद रुग्ण मोटापे से पीड़ित रोगियों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार के लिए समग्र दृष्टिकोण।

सबसे अच्छा तरीका है पिछले रोगियों के साथ बातचीत करना, वजन घटाने के लिए उनकी यात्रा को साझा करना और आत्मविश्वास के साथ सकारात्मक प्रतिक्रिया।

मोटापे के लिए जल्दी इलाज शुरू करना सफलता का एक अनिवार्य हिस्सा है। किसी भी वजन घटाने के कार्यक्रम को शुरू करने से पहले अपने चिकित्सक से बात करना हमेशा महत्वपूर्ण होता है जिसमें व्यवहार संशोधन, स्वस्थ खाने की आदतें, शारीरिक गतिविधि में वृद्धि और पाठ्येतर गतिविधि और यथार्थवादी वजन प्रबंधन लक्ष्य निर्धारित करना शामिल है।

उन्‍होंने कहा कि बीएमआई 40 से अधिक या बीएमआई 35 से अधिक संबद्ध सह-रुग्णताओं के साथ होने पर मोटापे के इलाज के लिए सर्जरी का उपयोग किया जा सकता है, विशेष रूप से मरीजों को आहार वजन घटाने के प्रयास करने चाहिए। मरीजों को मनोवैज्ञानिक मूल्यांकन से गुजरना होगा। रोगी को सर्जरी से जुड़े जोखिमों के बारे में पता होना चाहिए और उन्हें स्वीकार करना चाहिए और नियमित अनुवर्ती कार्रवाई के लिए तैयार रहना चाहिए।

कार्यक्रम में पूर्व और संभावित दोनों रोगियों ने अच्छी तरह से भाग लिया। निदेशक प्रो. सोनिया नित्यानंद ने कहा कि मरीज हमारे शुभ चिंतक हैं और हमारे प्राचीन ग्रंथों में समर्पित रोगियों के इलाज पर जोर दिया गया है। इस मौके पर मुख्‍य चिकित्‍सा अधीक्षक डॉ राजन भटनागर, हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ भुवन तिवारी, डॉ सचिन अवस्थी व अन्य लोग उपस्थित रहे तथा उन्‍होंने मोटापे से संबंधित हृदय और आर्थोपेडिक मुद्दों और उपचार के बाद के लाभों पर जोर दिया। पूरे कार्यक्रम के दौरान स्टाफ व अन्य लोग उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

11 − 5 =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.