Sunday , November 27 2022

जूनियर डॉक्‍टर की पत्‍नी के साथ भी की थी आरोपी रेजीडेंट ने हरकत, दब गया था मामला

केजीएमयू रेजीडेंट डॉक्‍टर एसोसिएशन के कड़े विरोध के बाद किशोरी से छेड़छाड़ का आरोपी डॉक्‍टर निलम्बित

लखनऊ। किंग जॉर्ज चिकित्‍सा विश्‍व विद्यालय के शताब्‍दी अस्‍पताल में तीमारदार किशोरी से छेड़छाड एवं गलत हरकत करने की कोशिश करने वाले जूनियर रेजीडेंट तृतीय वर्ष को निलम्बित कर दिया गया है। केजीएमयू प्रशासन ने यह कदम आज रेजीडेंट डॉक्‍टर एसोसिएशन द्वारा आरोपी रेजीडेंट को निलंबित करने की मांग के बाद उठाया है। एसोसिएशन द्वारा रेजीडेंट के बारे में यह भी बताया गया है कि इसने पिछले माह भी ऐसी ही एक हरकत एक जूनियर डॉक्‍टर की पत्‍नी के साथ की थी, लेकिन शिकायत के बाद भी काररवाई नहीं की गयी थी।

केजीएमयू प्रशासन द्वारा कहा गया है कि डा विजय अरोड़ा जूनियर रेजीडेंट तृतीय वर्ष के अतिरिक्‍त वार्ड ब्‍वॉय पंकज अवस्‍थी ने शराब के नशे में आकर तीमारदार किशोरी के साथ अशोभनीय व्‍यवहार किया। बताया गया कि ये लोग अक्‍सर शराब पीकर वार्ड में आया करते हैं। डॉ विजय अरोड़ा को निलंबित करते हुए वार्ड ब्‍वॉय पंकज अवस्‍थी को हटा दिया गया है, साथ ही पंकज अवस्‍थी की सेवा प्रदाता एजेंसी को कह दिया गया है कि भविष्‍य में केजीएमयू के किसी भी स्‍थान पर पंकज अवस्‍थी की ड्यूटी न लगायें। इसके अतिरिक्‍त सेवा प्रदाता एजेंसी लायलटेक मैनेजमेंट सर्विस प्राइवेट लिमि‍टेड पर 25 हजार रुपये का अर्थ दंड भी लगाया गया है। इस प्रकरण की जांच के लिए एक कमेटी गठित कर दी गयी है। इस जांच कमेटी में डॉ सुनीता तिवारी, डॉ अनूप कुमार वर्मा, डॉ बीके ओझा और डॉ सुजाता देव शामिल हैं।

डॉ विजय अरोड़ा जूनियर रेजीडेंट तृतीय वर्ष के अतिरिक्‍त वार्ड ब्‍वॉय पंकज अवस्‍थी ने शराब के नशे में आकर तीमारदार किशोरी के साथ अशोभनीय व्‍यवहार किया। बताया गया कि ये लोग अक्‍सर शराब पीकर वार्ड में आया करते हैं। डॉ विजय अरोड़ा को निलंबित करते हुए वार्ड ब्‍वॉय पंकज अवस्‍थी को हटा दिया गया है, साथ ही पंकज अवस्‍थी की सेवा प्रदाता एजेंसी को कह दिया गया है कि भविष्‍य में केजीएमयू के किसी भी स्‍थान पर पंकज अवस्‍थी की ड्यूटी न लगायें। इसके अतिरिक्‍त सेवा प्रदाता एजेंसी लायलटेक मैनेजमेंट सर्विस प्राइवेट लिमि‍टेड पर 25 हजार रुपये का अर्थ दंड भी लगाया गया है। इस प्रकरण की जांच के लिए एक कमेटी गठित कर दी गयी है। इस जांच कमेटी में डॉ सुनीता तिवारी, डॉ अनूप कुमार वर्मा, डॉ बीके ओझा और डॉ सुजाता देव शामिल हैं।

एसोसिएशन के अध्‍यक्ष डॉ राहुल भारत का कहना है कि किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय लखनऊ के रेडियोथेरेपी विभाग के एक जुनियर रेजीडेंट ने शराब पीकर विभाग के वार्ड में कैंसर पीड़ित मरीज के नाबालिग तीमारदार के साथ छेङखानी एवं गलत हरकत करने का प्रयास किया है। उन्‍होंने बताया कि इस रेजीडेंट द्वारा बीती 17 अगस्‍त को भी क्रिटिकल केयर मेडिसिन विभाग के एक जूनियर डॉक्‍टर की पत्‍नी के साथ छेड़छाड़ और गलत हरकत करने का प्रयास किया गया था, इसकी शिकायत भी की गयी थी लेकिन तकनीकी कारणों की बात कह कर मामला रफा-दफा कर दिया गया था। एसोसिएशन के मुख्‍य सलाहकार डॉ भूपेन्‍द्र सिंह ने कहा कि अगर उसी समय आरोपी रेजीडेंट के खिलाफ एक्‍शन लिया जाता तो उसकी हिम्‍मत न बढ़ती।

उन्‍होंने बताया कि रेजीडेंट डाक्टर एसोसिएशन इस आपराधिक प्रवृत्ति के जूनियर रेजीडेंट के दुष्कृत्य की कठोर निन्दा करती है। ऐसे आपराधिक तत्वों के कारण न केवल विश्वविद्यालय बल्कि समस्त चिकित्सक संवर्ग का नाम खराब हो रहा है। इसलिये रेजीडेंट डाक्टर एसोसिएशन उत्तर प्रदेश सरकार, चिकित्सा शिक्षा मंत्री, विश्वविद्यालय के कुलपति एवं कुलानुशासक से मांग करती है की उक्त आपराधिक मानसिकता के रेजीडेंट को तुरन्त छात्रावास से निष्कासित किया जाय और विभाग से तुरन्त निलम्बित किया जाय और दोनों मामलों की निष्पक्षता और संवेदनशीलता से जांच कराई जाय ताकी विभागीय प्रश्रय और तकनीकी कारणों के कारण किसी भी अपराधी को छोङा न जा सके।