शिक्षकों ने 11 सूत्रीय मांगों को लेकर किया आर-पार का ऐलान

-45 सितम्बर को उपवास से होगी आंदोलन की शुरुआत

दस नवम्बर तक विभिन्न चरणों में विरोध कार्यक्रम का खाका तैयार

माध्यमिक शिक्षक संघ चंदेल गुट की बैठक में लिया गया आंदोलन का निर्णय

सेहत टाइम्स ब्यूरो

लखनऊ। 11 सूत्रीय मांगों को लेकर गुरुवार को उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षक संघ चंदेल गुट ने आंदोलन का बिगुल फूंक दिया है। आंदोलन की शुरुआत आगामी 4 व 5 सितंबर को सभी जिला विद्यालय निरीक्षकों के कार्यालयों पर शिक्षकों के उपवास से होगी।

यह निर्णय ओसीआर स्थित कार्यालय पर शिक्षक संघ की प्रांतीय बैठक में लिया गया। बैठक की जानकारी संगठन के प्रदेशीय मंत्री व प्रवक्ता डॉ महेंद्र नाथ राय ने देते हुए बताया कि बैठक संरक्षक राजबहादुर सिंह चंदेल व प्रांतीय अध्यक्ष चेत नारायण सिंह की अध्यक्षता में संपन्न हुई। बैठक का संचालन प्रांतीय महामंत्री राम बाबू शास्त्री ने किया। बैठक में प्रदेश के सभी मंडलों के पदाधिकारी, विधान परिषद चुनाव के प्रत्याशी एवं उपाध्यक्ष जगदीश ब्यास उपस्थित रहे। बैठक को संबोधित करते हुए चेत नारायण सिंह ने कहा कि शिक्षक समस्याओं को लेकर आर पार का संघर्ष होगा। 11 सूत्रीय मांगों को लेकर उत्तर प्रदेश के शिक्षक 4 व 5 सितंबर को प्रदेश के सभी जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय पर दो दिवसीय उपवास पर बैठेंगे और राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन जिला विद्यालय निरीक्षक को प्रेषित करेंगे।  उन्होंने बताया कि इसके उपरांत 14 व 15 सितंबर को लखनऊ में राज्य परिषद की बैठक आयोजित की गई है, जिसमें पश्चिमांचल के नौ मंडलों के पदाधिकारी 14 सितंबर को व पूर्वांचल के पदाधिकारी 15 सितंबर को प्रतिभाग करेंगे।

श्री सिंह ने बताया कि 2 अक्टूबर गांधी जयंती के अवसर पर 11 सूत्रीय मांगों को लेकर प्रदेश के सभी मंडल मुख्यालयों पर उपवास पर बैठेंगे। उन्होंने बताया कि  2 से 9 नवम्बर के मध्य शिक्षा निदेशक माध्यमिक के कार्यालय पर क्रमिक उपवास का कार्यक्रम रखा गया है। समापन कार्यक्रम के दिन 10 नवम्बर को शिक्षक संघ का प्रतिनिधिमंडल राज्यपाल से मिलकर अपनी मांगों के समर्थन में ज्ञापन प्रेषित करेगा।

उन्होंने कहा कि एनपीएस कटौती के बावजूद धनराशि शिक्षकों के प्रान अकाउंट में नहीं जा रही है, जो चिंता का विषय है। उन्होंने आह्वान किया कि इसको लेकर सभी मंडलीय व जिला स्तरीय पदाधिकारी जिला विद्यालय निरीक्षक को तुरंत नोटिस दें और आवश्यक पड़े तो उनके कार्यालयों के समक्ष धरना आयोजित कर विरोध दर्ज कराएं। वित्तविहीन शिक्षकों का दर्द किसी से छिपा नहीं है। उसके लिए संगठन हर स्तर की लड़ाई लड़ रहा है। कोरोना संक्रमण के कारण सदस्यता अभियान प्रभावित होने के नाते सदस्यता अभियान की अंतिम तिथि 30 सितंबर तक कर दी गई है। प्रदेश के सभी जिला अध्यक्ष व मंडलीय मंत्री 30 सितंबर तक हर हाल में अपने-अपने जनपदों की सदस्यता सूची शुल्क के साथ जमा कर दें। बैठक के उपरांत प्रांतीय संरक्षक के.के.द्विवेदी के निधन पर दो मिनट का मौन रख श्रद्धान्जलि अर्पित की गई।