महिलाओं व बच्‍चों की सुरक्षा के लिए सुरक्षित इको सिस्‍टम जरूरी

-महिला एवं बाल सुरक्षा संगठन ने किया वैचारिक समागम का आयोजन

लखनऊमहिला एवं बाल सुरक्षा संगठन (डब्‍ल्‍यूसीएसओ)  ने 5 फरवरी को लखनऊ में ‘यूनिसेफ’ के सहयोग से ‘वैचारिक समागम का आयोजन किया। इस कार्यक्रम का उद्देश्य समाज के विभिन्न वर्गों और क्षेत्रों से विचार-मंथन करना था, ताकि विभिन्न क्षेत्रों से आने वाले लोग उत्तर प्रदेश में महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा से संबंधित विभिन्न प्रकार के प्रश्नों को उजागर करने में प्रभावी हों। इस कार्यक्रम में भाग लेने वाले पैनलिस्ट एनजीओ, शिक्षा, विधि क्षेत्र, कॉर्पोरेट वर्ल्ड, लेखक, सोशल सर्विस और सोशल मीडिया आदि से थे। मशहूर आर जे राशी ने कार्यक्रम का संचालन किया।

समारोह में नीरा रावत, एडीजी, डब्ल्यूसीएसओ (महिला एवं बाल सुरक्षा संगठन) ने कहा, “हमारा उद्देश्य महिलाओं और बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित  करने के लिए एक सुरक्षित इको सिस्टम प्रदान करना है। आज, हम महिलाओं के प्रति लोगों की मानसिकता को बदलने और उनके दिमाग को प्रभावित करने के तरीकों और तरीकों का पता लगाने के लिए एकत्र हुए हैं। ‘एजेंट ऑफ़ चेंज’ के रूप में इको सिस्टम को बनाए रखने के लिए समाज के सभी लोगों को अपनी भूमिका और जिम्मेदारी निभानी होगी। यूपी सरकार ने इस बारे में 360 डिग्री प्रभाव लाने के लिए, महिलाओं की सुरक्षा और सुरक्षा, गरिमा और सशक्तिकरण के लिए 24 विभागों को एक साथ लाने के लिए मिशन शक्ति अभियान शुरू किया। परिवार इस बदलाव को शुरू करने के लिए बुनियादी इकाई है। जिस तरह से परिवार महिलाओं का इलाज कर रहा है वह परिवार में पुरुषों के दिमाग को प्रभावित करने में एक प्रमुख भूमिका निभाता है। यहां हमें परिवार के पारंपरिक दिमाग के सेट को बदलने की जरूरत है और महिलाओं की बेहतरी के लिए खुद घर पर बदलाव लाने के लिए एक प्रभाव बनाना है। इसका मतलब है कि घर पर ही बदलाव शुरू होना चाहिए। जैसा कि सोशल मीडिया का बहुत बड़ा दायरा है, इसलिए हम निकट भविष्य में डिजिटल मार्केटिंग शुरू करने के लिए एक संगठन के रूप में काम कर रहे हैं। आज के “वैचरिक समागम” के बाद, जिसमें विभिन्न क्षेत्रों के लोगों ने महिलाओंऔर बाल सुरक्षा और सुरक्षा के विभिन्न मुद्दों पर ब्रेन स्टॉर्मिंग की है। हम सभी ने एक छोटा कोर समूह बनाने पर सहमति व्यक्त की है, ताकि हमारे प्रयास केंद्रित हों और हम समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचने में सक्षम हों और हर कदम पर महिलाओं और बच्चोंकी सुरक्षा का भरोसा दिला सकें।

यूनिसेफ के मोहम्मद आफताब ने इस मौके पर कहा, “हम एक रोडमैप तैयार करेंगे कि लिंग आधारित हिंसा को कैसे खत्म किया जाए। इसके लिए हम महिलाओं और बच्चों के प्रति समाज के लोगों के व्यवहार को बदलने के लिए सूक्ष्म स्तर पर संवाद श्रृंखला शुरू करते हैं। पता करेंगे कि वे कौन सी प्रमुख चुनौतियाँ हैं जिनका सामना महिलाओं को दैनिक आधार पर करना पड़ रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि पुलिस केवल अपनी भूमिका निभाने के लिए निकाय नहीं है, हर कोई समाज केलिए अपनी भूमिका निभाता है। शहर में हर जगह हम पुलिस नहीं डाल सकते। माता-पिता को अपने बच्चों को शुरू से ही लैंगिक समानता के बारे में सिखाना चाहिए और वास्तव में समाज में महिलाओं का सही स्थान क्या होना चाहिए। हम व्यवहार परिवर्तनों पर मैट्रिक्स / सामग्री तैयार कर रहे हैं और परिवर्तन के लिए शोध कर रहे हैं।

राज्य रेडियो अधिकारी, राघवेन्द्र कुमार द्विवेदी ने इस अवसर पर अपना विचार साझा किया और कहा,“डब्ल्यूसीएसओ ने महिलाओं और बच्चों के मुद्दों को बेहतर बनाने में मदद करने के लिएविश्व स्तर की तकनीक का उपयोग करते हुए कई तकनीकी पहल की हैं। भविष्य में भी हम महिलाओंऔर बच्चों के लिए पर्यावरण को बेहतर बनाने के लिए अत्याधुनिक प्रणालियों का उपयोग करेंगे।

कार्यक्रम के अंत में डब्ल्यूसीएसओ की एडिशनल एसपी, नीति द्विवेदी ने महिलाओं और बाल सुरक्षा संगठन के बारे में जानकारी दी। उन्होंने सभी पहलुओं में महिलाओं और बच्चों के लिए एक सुरक्षित माहौल बनाने के लिए एडीजी, डब्लूसीएसओ की एक छत के नीचे काम करने वाली महिला सम्मान प्रकोष्ठ,महिला सहायता प्रकोष्ठ और महिला शक्ति लाइन 1090 जैसी इकाइयों के बारे में बताया। उन्होंने कार्यक्रम का संचालन भी किया और धन्यवाद प्रस्ताव भी प्रस्तुत किया।