Friday , October 22 2021

पटाखों के शौकीनों को सुप्रीम कोर्ट से राहत, लेकिन कुछ शर्तों के साथ

कम प्रदूषण वाले पटाखों को दो घंटे ही चलाये जाने की दी अनुमति  

 

दीपावली पर पटाखे चलाने के शौकीन लोगों को सुप्रीम कोर्ट ने राहत दी है, लेकिन खुली छूट नहीं, कोर्ट ने रात्रि 8 बजे से रात्रि 10 बजे तक दो घंटे पटाखे चलाने के लिए छूट दी है, लेकिन इस दौरान भी कम प्रदूषण वाले पटाखों को ही चलाया जा सकेगा। आपको बता दें कि दीपावली से पहले पटाखों की बिक्री को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने करीब दो माह पूर्व सुरक्षित रखा गया अहम फैसला सुनाया. सर्वोच्च अदालत ने देश में कुछ शर्तों के साथ पटाखा बिक्री को मंजूरी दे दी है. कोर्ट ने कहा है कि कोशिश की जाए कि कम प्रदूषण वाले पटाखों का इस्तेमाल हो ताकि पर्यावरण को कोई नुकसान ना पहुंच पाए।

 

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद साफ है कि इस दीपावली पर देश में पटाखों की गूंज जरूर सुनाई देगी और लोग धमाकेदार अंदाज में दीपावली मना पाएंगे. सुप्रीम कोर्ट ने पटाखा फोड़ने के लिए समय सारिणी जारी कर दी है। सुप्रीम कोर्ट के अनुसार, दीपावली पर लोग रात 8 बजे से 10 बजे तक, क्रिसमस और न्यू ईयर पर रात 11.45 बजे से 12.15 बजे तक ही पटाखे बजा पाएंगे। इसके अलावा कोई भी विक्रेता ऑनलाइन पटाखे नहीं बेच पाएगा।

 

इस मसले पर जस्टिस एके सीकरी और जस्टिस अशोक भूषण की बेंच ने बीते 28 अगस्त को इस मसले पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। कोर्ट ने इस मामले में याचिकाकर्ताओं के अलावा पटाखा व्यापारी, केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड समेत एनजीओ के पक्ष जाने थे। बेंच ने सुनवाई के दौरान अपनी टिप्पणी में कहा था कि स्वास्थ्य के अधिकार और व्यापार में सामंजस्य बैठाने की जरुरत है।

 

सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल लगा दिया था बैन

इससे पहले पिछले साल कोर्ट ने प्रदूषण के मद्देनजर दीपावली से पहले दिल्ली-एनसीआर में पटाखों की बिक्री पर रोक लगा दी थी. दीपावली से ठीक पहले 9 अक्टूबर को सुप्रीम कोर्ट ने प्रतिबंध लगाते हुए अपने आदेश में यह भी कहा था कि कुछ शर्तों के साथ पटाखों की बिक्री 1 नवंबर, 2017 यानी दीपावली गुजर जाने के बाद फिर से की जा सकेगी।

 

2016 में दीवाली के बाद बढ़े प्रदूषण के मुद्दे पर दाखिल एक याचिका की सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने 2017 में दिल्ली-एनसीआर में पटाखे की बिक्री पर बैन लगा दिया था. हालांकि 12 सितंबर 2017 को सुप्रीम कोर्ट ने पटाखों की बिक्री पर पाबंदी वाले आदेश में संशोधन कर दिया और कुछ शर्तों के साथ पटाखा विक्रेताओं के अस्थायी लाइसेंस की संख्या में 50 फीसदी कटौती करने का आदेश दिया था।

 

साथ ही कोर्ट ने दिल्ली-एनसीआर में दूसरे राज्यों से पटाखे लाने पर भी प्रतिबंध लगा दिया था। लेकिन सुप्रीम कोर्ट के उक्त फैसले ने एक बार फिर नवंबर 2016 के पुराने आदेश को बहाल करते हुए दिल्ली-एनसीआर में पटाखों की बिक्री पर पूरी तरह रोक लगाने का आदेश दे दिया था।