सैफई आयुर्विज्ञान विश्‍वविद्यालय में रैगिंग, 150 छात्रों के सिर मुंडवाये !

कुलपति ने गठित की जांच कमेटी, छात्रों ने कहा अपने मन से सिर मुंडवाया

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के इटावा में सैफई आयुर्विज्ञान विश्‍वविद्यालय में रैगिंग का मामला सामने आया है। सैफई संस्‍थान से एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है, जिसमें जूनियर छात्र सिर मुंडवाये कॉलेज परिसर में घूमते नजर आ रहे हैं। इस संबंध में कुलपति प्रो. राजकुमार ने बताया कि मामले में प्रतिकुलपति डॉ. रमाकांत यादव की अध्यक्षता में जांच कमेटी गठित कर दी गई है जो रैगिंग की जांच करेगी। उन्होंने बताया कि वे शाम को खुद छात्रों से बात करने पहुंचे हैं। हालांकि रैगिंग की बात किसी ने उन्हें नहीं बताई है। शिकायत करने के लिए कोई सामने नहीं आया है। छात्रों का कहना है कि बाल उन्होंने स्वेच्छा से कटवाए हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार  सैफई में बने उत्तर प्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय में रैगिंग का मामला सामने आया है। यहां एमबीबीएस प्रथम वर्ष में दाखिला लेने वाले करीब 150 छात्रों ने सिर मुंडवा लिए हैं। जब यह छात्र कॉलेज कैंपस में अपनी क्लास में जाते हैं तो सिर झुकाकर चलते हैं। यही नहीं, हॉस्टल की तरफ दूर से ही झुककर प्रणाम करते हैं। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

प्रो. राजकुमार, कुलपति

कॉलेज कैंपस में मंगलवार को एमबीबीएस प्रथम वर्ष के सभी छात्रों के सिर मुंडे हुए नजर आए। सभी छात्र एक लाइन में चलते हुए अपनी क्लास में पहुंचे। इस दौरान उनके सिर झुके हुए थे। हालांकि, रैगिंग को लेकर फिलहाल किसी भी छात्र ने कुछ भी नहीं कहा है। लेकिन, चर्चा है कि सीनियर्स छात्रों के कहने पर ही जूनियर्स ने सिर मुंडवाए हैं।

बताया जाता है कि यह रैगिंग पिछले छह दिनों से सीनियर छात्रों द्वारा की जा रही थी। छात्राओं को भी चोटी बांधने के निर्देश दिए गए और कैंपस से निकलते समय इन छात्रों को एप्रेन के थर्ड बटन पर सिर करने को कहा गया है। इस वर्ष प्रथम वर्ष में 200 छात्रों ने भाग लिया है। यह हाल तब है जब प्रथम वर्ष के छात्र-छात्राओं के हॉस्टल पर सुरक्षा कर्मियों का कड़ा पहरा है। हॉस्टल से लेकर कक्षाओं तक सुरक्षा के इंतजाम हैं। इसके बावजूद भी सीनियर्स का फरमान हॉस्टलों में पहुंच गया।