अब खेल और मस्‍ती के माहौल के बीच बच्‍चों को मिलेगा इलाज, होगी जल्‍दी रिकवरी

66वें स्‍थापना दिवस पर केजीएमयू के बाल रोग विभाग ने बनाया प्‍ले एरिया

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। केजीएमयू के बाल रोग विभाग में आने वाले बच्‍चों के लिए एक प्‍ले एरिया बनाया गया है। बच्‍चों को प्‍ले एरिया का यह तोहफा विभाग ने अपने 66वें स्‍थापना दिवस के मौके पर दिया। प्‍ले एरिया में विभिन्‍न प्रकार के खिलौने, हिन्‍दी-इंग्लिश के अक्षर, स्‍लाइडर, सी-सौ जैसी बच्‍चों को लुभाने वाली चीजों को लगाया गया है। इसका उद्देश्‍य बच्‍चों के अंदर खुशी में निकलने वाले हार्मोन्‍स से बच्‍चे को स्‍वस्‍थ करने और बीमारी के बाद रिकवरी करने में लाभ पहुंचाना है। यही नहीं खेल-खेल में पढ़ाई भी हो जायेगी। यानी इलाज, पढ़ाई और मस्‍ती स‍ब एक साथ।

इस प्‍ले एरिया का उद्घाटन शनिवार को मुख्य अतिथि मेजर जनरल माधुरी कानिटकर (एवीएसएम, वीएसएम, अध्यक्ष मेडिकल सेवा, नॉर्थेर्न कमांड , ऊधमपुर, जम्‍मू-कश्‍मीर) ने दीप प्रज्‍ज्‍वलित करके किया। उनके साथ समारोह के गेस्ट ऑफ़ ऑनर इंक्लेन ट्रस्ट इंटरनेशनल नई दिल्ली के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर प्रो नरेंद्र कुमार अरोरा एवं वसुंधरा कुमारी तथा समारोह के अध्‍यक्षत कुलपति प्रो एमएलबी भट्ट शामिल रहे।

मेजर जनरल माधुरी कानिटकर ने प्ले एरिया की परिकल्पना के वैज्ञानिक पक्ष पर प्रकाश डाला साथ ही उन्होंने केजीएमयू के बाल विभाग को अन्य संस्थाओं के लिए अनुकरणीय बताया।

विभागाध्‍यक्ष डॉ शैली अवस्‍थी ने बताया कि सुन्दर वातावरण तथा खिलौने सकारात्मकता एवं प्रसन्नता लाकर बच्चों के स्वास्थ्य लाभ में त्वरित गति प्रदान करते हैं। शरीर में कई ऐसे हॉर्मोन और ऐसे ही उत्पाद बनने लगते हैं जो गंभीर रोगों के बाद आई शिथिलता एवं जड़ता को कम करके, बच्चों के डिस्चार्ज बाद भी पूर्ण स्वास्थ्य की प्राप्ति में सहायक होते हैं।

उन्‍होंने विभाग की स्थापना एवं इसकी यात्रा की बारे में बताते हुए वार्षिक गतिविधियों का ब्यौरा दिया। उन्होंने बताया कि किस प्रकार बाल विभाग अपनी सभी यूनिटों यथा सीएचडीएस, यूएचडीएस, इमरजेंसी, एनएनयू, बाल कैंसर यूनिट/विभाग, एनआईसीयू, एवं पीआईसीयू के माध्यम से गंभीर, दुरूह एवं असाध्य तथा अति गंभीर रोगों से ग्रसित शिशुओं एवं बालकों की सेवा व स्वास्थ्य लाभ में अनवरत व दिन रात तत्पर हैं। उन्‍होंने विभाग द्वारा किये गये शोध के बारे में भी बताया।

कुलपति प्रो एमएलबी भट्ट ने विश्वविद्यालय, लखनऊ, उत्तर प्रदेश एवं आसपास के अन्य प्रदेशों के कुछ नगरों के रुग्ण एवं अतिरुग्ण शिशुओं व बच्चों के लिए बाल विभाग की उपयोगिता और अपरिहार्यता के बारे में बताते हुए प्ले एरिया की भूरि‍-भूरि‍ सराहना की। उन्होंने बाल विभाग के चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में विश्वविद्यालय में तथा प्रदेश एवं देश में महत्वपूर्ण स्थान की भी सराहना की। इस मौके पर केजीएमयू की अन्‍य फैकल्‍टीज के साथ ही बाल रोग विभाग के रेजीडेंट डॉक्‍टर, नर्स व कर्मचारी भी उपस्थित रहे।