केजीएमयू में बड़ी लापरवाही, भर्ती कोरोना मरीज वार्ड से निकल कर टहल रहे, संक्रमण फैला रहे, सामने आया वीडियो

-एक मरीज का वीडियो सामने आया, काफी देर बैठा रहा मोटर साइकिलों पर

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। किंग जॉर्ज चिकित्‍सा विश्‍वविद्यालय (केजीएमयू) में बड़ी लापरवाही उजागर हुई है, यहां कोरोना वार्ड में भर्ती मरीज वार्ड से निकलकर आराम से बाहर टहल रहे हैं, कोई मोबाइल से बात कर रहा है तो कोई वहां खड़ी बाइक पर ऐसे बैठा हुआ है जैसे कोई सामान्‍य व्‍यक्ति आमतौर पर बैठ जाते हैं। इस सम्‍बन्‍ध में एक वीडियो सामने आया है।  

देखें वीडियो- केजीएमयू में 9 जुलाई को सुबह करीब 11 बजे पीपीई किट पहने हुआ कर्मचारी खुले मे घूम रहे कोरोना मरीज को वापस वार्ड में ले गया

जानकारी में आया है कि यहां न्‍यूरोलॉजी विभाग के सामने बनाये गये कोरोना वार्ड में भर्ती एक पुरुष मरीज गुरुवार को सुबह करीब 11 बजे वार्ड से आराम से निकलकर पीडियाट्रिक सर्जरी विभाग, प्‍लास्टिक सर्जरी विभाग के सामने से गुजरते हुए आराम से वहां खड़ी होने वाली मोटर साइकिलों पर काफी देर बैठा रहा। प्रत्‍यक्षदर्शियों के अनुसार इस बारे में किसी को कोई अंदाजा भी नहीं था कि इस तरह से कोरोना मरीज खुले में टहल भी सकता है, इसका पता तब चला जब पीपीई किट पहने एक कर्मचारी ने आकर उसे वापस वार्ड में जाने को कहा। यही नहीं, यह मरीज मास्‍क भी नहीं लगाये था। इसने पैरों में चप्‍पल भी नहीं पहन रखी थीं।

प्रत्‍यक्षदर्शियों ने यह भी बताया कि यह अकेली घटना नहीं है, कल ही शाम को कोरोना वार्ड में भर्ती एक महिला मरीज भी वार्ड से निकलकर वहीं सामने मोबाइल से बातें करती रही, उसे भी पीपीई किट पहने कोरोना वार्ड के कर्मचारियेां ने टोका और वापस ले गया।   

यहां कई सवाल उठते हैं कि आखिर कोरोना पीडि़त मरीज वार्ड से बाहर  निकल कर कैसे आ गया। दूसरा सवाल कि आखिर कोरोना मरीज की अलग पहचान के लिए ऐसी कोई पहचान जो दूर से ही नजर आ जाये कि यह कोरोना पेशेन्‍ट है, क्‍यों नहीं की गयी है। फि‍लहाल यहां पर दूसरे विभागों में काम करने वालों में दहशत है, और देखा जाये तो इस बात से दिक्‍कत हर उस व्‍यक्ति को होगी जो उस क्षेत्र के आसपास से गुजरेगा।