Saturday , May 7 2022

यूक्रेन के खारकीव में फंसे भारतीय छात्र की रूसी गोलाबारी में मौत

-कर्नाटक का रहने वाला छात्र गवर्नर हाउस पर होने वाले हमले का हुआ शिकार

Image Courtesy : Nexta/Twitter

सेहत टाइम्‍स

लखनऊ। यूक्रेन के खारकीव में भारत के एक छात्र के मारे जाने की खबर है क्योंकि रूस ने शहर पर गोलाबारी जारी रखी है। सूत्रों के मुताबिक, वह कर्नाटक का रहने वाला 21 वर्षीय मेडिकल का छात्र है। खार्किव में भारतीय छात्र नेताओं का कहना है कि वह किराने का सामान खरीदने के लिए निकले थे, जब रूस ने शहर के गवर्नर हाउस पर गोलाबारी शुरू की और गोलाबारी में मारा गया। केंद्रीय विदेश मंत्रालय ने खारकीव में छात्र की मौत की पुष्टि की है।

आज मंगलवार 1 मार्च को मंत्रालय की ओर से प्रवक्‍ता अरिंदम बागची ने ट्वीट करके इसकी पुष्टि करते हुए कहा है कि “गंभीर दुख के साथ, हम पुष्टि करते हैं कि आज सुबह खारकीव में एक भारतीय छात्र की गोलाबारी में जान चली गई। मंत्रालय उनके परिवार के संपर्क में है। हम परिवार के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करते हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार टीएनएम को पता चला है कि मंगलवार की सुबह छात्र खारकीव के एक सुपरमार्केट में खाना खरीदने के लिए कतार में खड़ा था, तभी रूसी गोलाबारी हुई। खारकीव में भारतीय छात्रों के लिए समन्वयक के रूप में कार्यरत पूजा ने पत्रकार आदित्य राज कौल को बताया कि छात्र का फोन एक यूक्रेनी महिला को मिला, जिसने फोन किया और कहा कि फोन के मालिक को मुर्दाघर में भेज दिया गया था क्योंकि उसकी हत्या कर दी गई थी।

ज्ञात हो राजधानी कीव के बाद खारकीव यूक्रेन का दूसरा सबसे बड़ा शहर है, और यूक्रेन के पूर्वी हिस्से में है। रूस से हो रहे हमले में बचाव के प्रयास वर्तमान में देश की पश्चिमी सीमाओं पर केंद्रित हैं। खार्किव में छात्रों के अनुसार, शहर में कम से कम 3,000 भारतीय हैं और उनके पास आवश्यक आपूर्ति और आपूर्ति खरीदने के लिए पैसे नहीं हैं।

इस बीच भारत में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि भारत ने रूस और यूक्रेन से वहां फंसे भारतीय नागरिकों के लिए सुरक्षित मार्ग सुनिश्चित करने का आह्वान किया है। प्रवक्ता ने कहा कि विदेश सचिव रूस और यूक्रेन के राजदूतों को भारतीय नागरिकों के लिए तत्काल सुरक्षित मार्ग की हमारी मांग को दोहराने के लिए बुला रहे हैं जो अभी भी खारकीव और अन्य संघर्ष क्षेत्रों में शहरों में हैं। इसी तरह की कार्रवाई रूस और यूक्रेन में हमारे राजदूतों द्वारा भी की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

12 − twelve =

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.