Tuesday , August 23 2022

भारत सरकार ने मांगी देश भर के फार्मासिस्‍टों की सूची

-उत्‍तर प्रदेश फार्मेसी काउंसिल की रिटायर्ड व बेरोजगार फार्मासिस्‍टों से ब्‍यौरा मांगा 

लखनऊ। फार्मेसी काउंसिल ऑफ इंडिया ने सभी फार्मेसिस्‍टों के नाम, पंजीकरण संख्‍या, मोबाइल नम्‍बर और ईमेल आईडी की सूची मांगी है। बताया जा रहा है कि यह सूची भारत सरकार से फार्मेसी काउंसिल से मांगी है। फार्मेसी काउंसिल ऑफ इंडिया ने सभी स्टेट फार्मेसी कॉउंसिल्स को निर्देशित किया है कि वह सभी फार्मेसिस्टो के नाम, पंजीकरण संख्या,  मोबाइल नंबर और  ईमेल आईडी की सूची बनाकर तत्काल फार्मेसी काउंसिल ऑफ इंडिया को प्रेषित करें ।

इसी क्रम में उत्तर प्रदेश फार्मेसी काउंसिल द्वारा अपनी वेबसाइट www.uppharmacycouncil.com पर एक ‘ई-मेल’ जारी करते हुए सूचना प्रदर्शित की गई है कि सभी फार्मेसिस्ट अपनी सूचना जिसमें उपरोक्त बिंदु शामिल हो तत्काल ई-मेल द्वारा उत्तर प्रदेश फार्मेसी काउंसिल को भेजें ।

यह जानकारी देते हुए कौंसिल के विशेष कार्य अधिकारी रमेश चंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि contact@uppharmacycouncil.com ईमेल पर सूचना मांगी गई है।

कौंसिल के पूर्व चेयरमैन सुनील यादव, फीपो अध्यक्ष के.के. सचान, डीपीए अध्यक्ष संदीप बडोला, महामंत्री श्रवण सचान सहित विभिन्न संघों द्वारा बेरोजगार और सेवानिवृत्त फार्मेसिस्टों से अपील की गई है कि वे जनता के हित में अपनी सूचना तत्काल भेज दें।

सुनील यादव ने बताया कि यह सूचना भारत सरकार ने किस प्रयोजन हेतु चाहा है, यह स्पष्ट नहीं है, ना ही यह स्पष्ट किया गया है कि उपरोक्त सूचना के आधार पर आवश्यकतानुसार फार्मेसिस्टों की सेवा ली जाएगी, लेकिन  कोविड-19 जो एक महामारी के रूप में वैश्विक रूप ले चुका है,  के उपचार हेतु कभी भी बड़े पैमाने पर मानव संसाधन की आवश्यकता पड़ने पर जनहित में देश के फार्मेसिस्टों की सेवाएं भारत सरकार द्वारा ली जा सकती हैं।

उन्‍होंने कहा है कि देश के फार्मेसिस्ट इस संक्रमण काल मे जनता और सरकार के साथ खड़े हैं। हमारे वैज्ञानिक इस बीमारी के निदान,  उपचार के लिए औषधियों पर रिसर्च कर रहे हैं,  वहीं हमारी इंडस्ट्री आवश्यक औषधियां बनाने को तैयार हैं,  हॉस्पिटल में कार्यरत क्लीनिकल/हॉस्पिटल फार्मेसिस्ट भी चिकित्सालयो में अपनी सेवाएं दे रहे हैं।