Wednesday , June 29 2022

पैसे को ज्‍यादा महत्‍व देने से बेहतर है आत्मिक शांति पर जोर दें डॉक्‍टर

-बलरामपुर अस्‍पताल के 151वें स्‍थापना दिवस पर कार्यशा‍ला का आयोजन

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना ने चिकित्सकों विशेषकर नवनियुक्त चिकित्सा अधिकारियों से आह्वान किया है कि चिकित्सा के पेशे में संवेदनशीलता का बहुत महत्व है उन्होंने कहा कि जीवन में पैसे को बहुत महत्व नहीं दिया जाना चाहिए उन्होंने कहा कि भौतिक सुख से संतुष्ट नहीं मिल सकती, आत्मिक शांति पर जोर दिया जाना चाहिए।

सुरेश खन्ना शनिवार को बलरामपुर चिकित्सालय के 151वें स्थापना दिवस के अवसर पर आयोजित तीसरे डॉ एस सी राय मेमोरियल व्याख्यान तथा यूरोलॉजिकल वर्कशॉप में मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर अस्पताल के निदेशक डॉ राजीव लोचन ने मुख्य अतिथि सहित सभी अतिथियों का स्वागत करते हुए बलरामपुर चिकित्सालय के इतिहास के बारे में जानकारी दी।

व्याख्यान के अंतर्गत एसजीपीजीआई में रह चुके यूरोलॉजिस्ट डॉ अनंत कुमार ने न्यूरो सर्जरी विधि में रोबोट सर्जरी के प्रयोग पर जोर दिया। डॉ अनंत कुमार ने बताया कि विश्व में करीब 5000 रोबोट्स हैं जिनके माध्यम से सर्जरी की जा रही है जिसमें से 80% अमेरिका में ही है। उन्‍होंने कहा कि रोबोटिक सर्जरी में रक्त स्राव काफी कम बहता है।

वृद्धजनों में बहरेपन के बारे में डॉ एनके तनेजा द्वारा बताया गया। बहरेपन को लेकर योगा के महत्‍व पर भी जानकारी दी गयी।  केजीएमयू के डॉ डी हिमांशु ने डायबिटीज में गोलियों के ऊपर इंसुलिन के प्रयोग पर व्याख्यान दिया। डॉ हिमांशु ने बताया कि इंसुलिन ओरल मेडिसिन से बेहतर और सुरक्षित रहती है बलरामपुर अस्पताल के डॉ ऋषि सक्सेना ने अपने द्वारा ठीक की गयी स्पाइन सर्जरी के जटिल सर्जरी वाले केस के बारे में जानकारी दी।  इसके अलावा ईएनटी सर्जन डॉ एस पी श्रीवास्तव ने एंटी सर्जन द्वारा द्वारा फॉरेन बॉडी विषय पर व्याख्यान व डॉ एम एस उस्मानी द्वारा फंगल इंफेक्शन पर व्याख्यान दिया गया।