ऐलोपैथी हो, होम्‍योपैथी हो या कोई भी पै‍थी, जरूरी है सिम्‍पैथी

-धन्वन्‍तरि सेवा संस्‍थान ने गठि‍त की डॉ एससी राय जयंती समारोह समिति

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। डॉ सतीश चंद्र राय हमेशा हम सभी को यही पाठ पढ़ाते रहे कि चिकित्सक चाहे एलोपैथी या होम्योपैथी या किसी भी पैथी का हो लेकिन उसकी मरीजों के प्रति सिम्पैथी जरूर होनी चाहिए।

यह उद्गार आज लखनऊ के पूर्व मेयर व उत्‍तर प्रदेश राज्‍य चिकित्‍सा सेवाओं के सीनियर सर्जन डॉ एससी राय के जन्‍म दिवस के अवसर पर धन्वन्तरि सेवा संस्थान के तत्वावधान में डॉ सतीश चंद्र राय रोगी सहायक विश्रामगृह केजीएमयू में आयोजित एक कार्यक्रम की अध्‍यक्षता करते हुए धन्‍वन्‍तरि सेवा संस्‍थान के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष केजीएमयू के प्रो सूर्यकांत ने व्‍यक्‍त किये। इस कार्यक्रम में वक्‍ताओं ने डॉ एससी राय के साथ अपने संस्‍मरणों को साझा किया।

संस्‍थान के अध्‍यक्ष केजीएमयू के प्रो विनोद जैन ने डॉ एससी राय के सर्जन के रूप में चिकित्‍सा विभाग में उनके सेवाकाल से लेकर डॉ राय के राजनीतिक जीवन तक के सफर के अनेक संस्‍मरणों को सुनाकर उन्‍हें याद किया।

समाज को एक धागे में पिरोने का कार्य

अवधेश नारायण द्वारा डॉ सतीश चंद्र राय जयंती समारोह समिति का गठन की घोषणा की गयी। इस समिति की घोषणा करते हुए उन्‍होंने बताया कि भविष्य में समिति द्वारा डॉ सतीश चंद्र राय के व्यक्तित्व का अनुसरण करते हुए समाज को एक धागे में पिरोने का कार्य किया जाएगा।

इस अवसर पर समिति के संरक्षक डॉ सूर्यकांत व अध्‍यक्ष डॉ विनोद जैन के साथ ही जितेंद्र भटनागर,  उपाध्यक्ष अनवर रिजवी, सचिव ए के सिंह एवं अमिताभ श्रीवास्तव, डॉ विभा सिंह, डॉ नीरज मिश्रा, अवधेश नारायण, सन्तोष पटेल,  भारती जी समेत कई अनेक लोग उपस्थित रहे।