Monday , May 9 2022

मास्‍क और सेनिटाइजर के लिए न करें मारामारी, इस तरह हारेगी यह बीमारी

-आईएमए के मानद प्रोफेसर, केंद्रीय परिषद के सदस्‍य प्रो सूर्यकांत ने की जनता से अपील
प्रो सूर्यकांत

धर्मेन्‍द्र सक्‍सेना

लखनऊ। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के मानद प्रोफेसर, आईएमए की केंद्रीय परिषद के सदस्‍य, केजीएमयू के पल्‍मोनरी विभाग के विभागाध्‍यक्ष प्रो सूर्यकांत ने कोरोना वायरस से बचाव को लेकर नागरिकों से अपील की है कि वे हाथों की सफाई के लिए सेनिटाइजर को लेकर परेशान न हों, अपनी जेब में पेपर सोप रखें और उससे हाथ धो सकते हैं।

उन्‍होंने यह भी कहा कि इसी प्रकार लोग मास्‍क को लेकर भी बहुत परेशान हैं, जबकि मास्‍क लगाने की जरूरत मरीज और उसका इलाज करने वाले को है, इसके अलावा यदि भीड़-भाड़ वाले इलाके में मजबूरीवश जा रहे हैं, तो मास्‍क की आवश्‍यकता हैं। उन्‍होंने कहा कि ऐसी परिस्थिति में यह जरूरी नहीं है कि मास्‍क ही लगाया जाये, आप अपने रूमाल, अंगोछा या दुपट्टा को मास्‍क बनाकर बांध सकते हैं, तथा वापस घर पहुंच कर उसे इधर-उधर न रखकर धोकर अगली बार के लिए तैयार कर सकते हैं, और यदि मास्‍क का प्रयोग करते हैं तो वह डिस्‍पोसेबल होता है, यानी साधारणतय: एक मास्‍क एक बार ही काम आता है, तो ऐसे में डिस्‍पोस करने के लिए या तो उसे जला दें, या अन्य किसी तरीके से विसंक्रमित करने के बाद ही कूड़े में डालें।

उन्‍होंने लोगों से कहा कि लोगों को डरने की आवश्‍यकता नहीं है, बल्कि हिम्‍मत के साथ इससे लड़ने की जरूरत है। सरकार द्वारा जारी की गयी गाइडलाइंस का पालन करें तथा कोशिश करें कि घर से बाहर अत्‍यन्‍त आवश्‍यक होने पर ही निकलें।