Thursday , May 12 2022

सेहत और जेब दोनों को देखते हुए डाय‍टीशियन तय करें रोगी की खुराक

-लोहिया संस्‍थान में आयोजित कार्यक्रम में वेल्‍लौर की आहार विशेषज्ञ की सलाह

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। डायटीशियन मरीजों को वही आहार खाने की सलाह दें जो उनके लिए पोषक तो हों लेकिन साथ ही उनकी आर्थिक स्थिति को ध्‍यान में रखते हुए उनकी पहुंच में भी हों।

यह बात आत 24 जनवरी को डा0 राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में आयोजित आहार एवं पोषण विभाग द्वारा एक गेस्ट लेक्चर में सीएमसी वेल्‍लौर की पूर्व विभागाध्‍यक्ष महेन्‍द्री ने कही। समारोह में उत्तर प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों से डायटिशियन ने भाग लिया। इस अवसर पर विशिष्ट अतिथियों का स्वागत बडे़ ही पोषक तरीके से करते हुए सम्मान स्वरूप फलों की टोकरी प्रदान की गई।

कुमारी महेन्द्री ने सभी डायटिशियन से अनुरोध किया कि मरीजों को वही आहार बतायें जो उनके लिए कारगर होने के साथ उनकी पहुंच में भी हों। डायटिशियन का काम सिर्फ वजन घटाने या बढ़ाने का नहीं है बल्कि आने वाले समय में उनकी भूमिका रोगों को रोकने में ज्यादा महत्वपूर्ण होगी।

संस्थान के निदेशक प्रोफेसर ए0के0 त्रिपाठी ने सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि डायटिशियन मेडिकल केयर टीम का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है और उन्हें अधिक प्रखर रूप में आगे आना होगा। संस्थान के एक्ज़िक्यूटिव रजिस्ट्रार प्रो0 राजन भट्नागर, डीन प्रो0 नुज़हत हुसैन ने अपने विचारों से सभी को अवगत कराया। संस्थान की डायटिशियन पूनम तिवारी जो इस कार्यक्रम की आयोजिका भी है़ं, ने संस्थान की ओर से सभी डायटिशियन को प्रदेश स्तर पर सामूहिक रूप से पोषण जागरूकता कार्यक्रम करने की अपील की। साथ ही साथ उन्होंने आयोजन की सफलता के लिए सभी का धन्यवाद व्यक्त किया एवं भविष्य में इस तरह के और आयोजनों को कराने का भी भरोसा दिलाया।