कोविड-19 : 15 दिनों के लिए चलेगा फोकस सै‍म्‍पलिंग अभियान

-रेस्‍टोरेंट, फल-सब्‍जी विक्रेता, टैम्‍पो-थ्री व्‍हीलर, बस ड्राइवर, नारी निकेतन जैसे स्‍थानों से लिये जायेंगे सैम्‍पल

-11, 12 एवं 18 फरवरी को होगा फ्रंटलाइन कर्मियों का कोविड वैक्‍सीनेशन

अमित मोहन प्रसाद

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने जानकारी दी है कि प्रदेश में 15 दिनों के लिए फोकस सैम्पलिंग का अभियान फिर से चलाया जा रहा है। यह अभियान 10 फरवरी से 24 फरवरी तक चलाया जायेगा। श्री प्रसाद ने बताया कि फ्रंट लाइन कर्मियों के कोविड वैक्सीनेशन का कार्य 11, 12 व 18 फरवरी को किया जायेगा।

लोक भवन में प्रेस प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए उन्‍होंने बताया कि इस अभियान के अन्तर्गत आज 10 फरवरी को रेस्टोरेंट में काम करने वाले लोगों की फोकस टेस्टिंग की जा रही है। इसके बाद 11 फरवरी को फल-सब्जी विक्रेता, 12 फरवरी को टैम्पो/थ्री व्हीलर/रिक्शा, 13 फरवरी को सरकारी एवं निजी बस चालकों का, 14 फरवरी को स्वीट शॉप और 15 फरवरी को नारी निकेतन, वृद्धाश्रम आदि, 16 फरवरी को जेलों में, 17 फरवरी को सरकारी व निजी कार्यालयों में, 18, 19 व 20 फरवरी को मलिन बस्तियों में फोकस सैम्पलिंग के माध्यम से कोविड संक्रमित लोगों की पहचान की जायेगी।

उन्‍होंने बताया कि प्रदेश में कल एक दिन में कुल 1,27,920 सैम्पल की जांच की गयी। प्रदेश में अब तक कुल 2,90,40,824 सैम्पल की जांच की गयी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना से संक्रमित 166 नये मामले केवल 42 जनपदों से ही आये हैं। जबकि अन्य 32 जनपदों में पिछले 24 घंटों में कोविड संक्रमण के कोई केस प्राप्त नहीं हुए हैं। प्रदेश में 3,256 कोरोना के एक्टिव मामलों में से 837 लोग होम आइसोलेशन में हैं। प्रदेश में कोविड-19 से ठीक होने का प्रतिशत अब 98.01 हो गया है। उन्होंने बताया कि निजी चिकित्सालयों में 322 लोग इलाज करा रहे हैं, इसके अतिरिक्त हर जनपद में एल-2 एवं एल-3 स्तर के अस्पतालों में मरीज अपना इलाज करा रहे हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश में अब तक 5,89,771 लोग कोविड-19 से ठीक होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं। उन्होंने सभी नागरिकों से अपील की है कि कोविड-19 के प्रोटोकाल का पालन अवश्य करें।