नवम्‍बर में लखनऊ, गौतम बुद्ध नगर, मेरठ, गाजियाबाद, वाराणसी में केस बढ़े

अंबेडकरनगर, हाथरस, बलरामपुर, कानपुर देहात तथा श्रावस्ती में सबसे कम निकले हैं केस

-24 घंटे में यूपी में निकले 2588 नये मरीज, 37 लोगों की मौत

-सर्वाधिक 351 केस लखनऊ में, छह की मौत, 313 लोग डिस्‍चार्ज

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। वैश्विक महामारी कोविड-19 के केस उत्‍तर प्रदेश में बढ़ रहे हैं। नवम्बर माह में पॉजिटिविटी रेट 1.6 प्रतिशत है। नवम्‍बर माह में जिन जिलों में ज्‍यादा केस सामने आये हैं उनमें राजधानी लखनऊ के साथ ही गौतम बुद्ध नगर, मेरठ, गाजियाबाद तथा वाराणसी हैं, जबकि सबसे कम केस निकलने वाले जनपदों में अंबेडकरनगर, हाथरस, बलरामपुर, कानपुर देहात तथा श्रावस्ती हैं। हालांकि जांच भी ज्‍यादा हो रही हैं, अब तक कुल 1,79,85,811 सैम्पल की जांच की गयी है।

प्रदेश के अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने कहा कि प्रदेश में कल एक दिन में कुल 1,75,128 सैम्पल की जांच की गयी, जबकि बीते 24 घंटे में 2588 नये मामले आये हैं हालांकि मौतों का आंकड़ा बढ़ा है, इस अवधि में 37 लोगों की मौत हुई है। सबसे ज्‍यादा केस फि‍र लखनऊ में ही पाये गये हैं, यहां 351 नये संक्रमित पाये गये हैं जबकि 6 लोगों की मौत भी हुई है।  

अमित मोहत प्रसाद ने बताया है कि प्रदेश में 23,806 कोरोना के एक्टिव मामले हैं। होम आइसोलेशन में 10,902 लोग हैं। उन्होंने बताया कि निजी चिकित्सालयों में 2356 लोग इलाज करा रहे हैं, इसके अतिरिक्त बाकी मरीज एल-1, एल-2 तथा एल-3 के सरकारी अस्पतालों में अपना ईलाज करा रहे हैं। प्रदेश में कोविड-19 रिकवरी रेट 94.04 प्रतिशत है।

उन्होंने कहा कि जांच और दवाओं की पूरी चिकित्सा व्यवस्था निःशुल्क है। अपने संक्रमण को छिपाए नहीं लक्षण दिखने पर तत्काल जांच कराएं। प्रदेश के सभी जिला चिकित्सालयों में पोस्ट कोविड केयर की सुविधा उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि बचाव से ही कोविड-19 की सेकेन्ड वेव से बच सकते हैं। उन्होंने कहा कि विशेषकर बच्चे, बुजुर्ग, महिलाएं तथा बीमार व्यक्तियों को संक्रमण से दूर रखकर कोविड-19 की सेकेन्ड वेव से बचाया जा सकता है।