Friday , August 19 2022

केजीएमयू के 320 बिस्‍तरों वाले कोविड अस्‍पताल का सीएम ने किया लोकार्पण

-यूपी में 15 दिनों में चार कोविड अस्‍पताल शुरू किये गये

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। उत्‍तर प्रदेश केमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि बीते 15 दिनों में कोरोना महामारी से निपटने के लिए प्रदेश में चार कोरोना अस्‍पताल शुरू किये गये हैं।

मुख्‍यमंत्री ने यह बात आज 7 सितम्‍बर को किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के 320 बेड वाले कोरोना समर्पित हॉस्पिटल का उद्घाटन करने के मौके पर कही। अपने संबोधन में मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने कोरोना महामारी के प्रारंभिक चरण में एक ही अस्पताल से शुरुआत की थी, लेकिन पिछले 15 दिनों में यूपी सरकार ने इस भयानक बीमारी से निपटने के लिए 4 नए कोरोना अस्पतालों को जोड़ा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने आज ही दो नए कोविड अस्पतालों का उद्घाटन किया है, जिनमें से 300 बेड वाला बीआरडी हॉस्पिटल गोरखपुर में तथा 320 बेड का लखनऊ में तैयार किया गया है। उन्‍होंने कहा कि सरकार उत्तर प्रदेश के प्रत्येक जिले में कोविड उपचार की उपलब्धता सुनिश्चित कर रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में कोरोना संक्रमण की रोकथाम और उपचार के लिए राज्य सरकार लगातार प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश कोविड जांच सुविधा में बहुत आगे है, और हम एक ही दिन में एक लाख 50 हजार से अधिक जांच कर रहे हैं।

इस मौके पर विशिष्‍ट अतिथि के रूप में उपस्थित मंत्री चिकित्सा शिक्षा, वित्त और संसदीय मामले सुरेश कुमार खन्ना ने केजीएमयू में 320 बेड वाले कोविड अस्पताल की स्थापना के लिए जिला प्रशासन और केजीएमयू द्वारा किए गए प्रयासों की सराहना की। उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें विश्वास था कि केजीएमयू के कुलपति लेफ्टिनेंट जनरल डॉ बिपिन पुरी के नेतृत्व में केजीएमयू चिकित्सा के क्षेत्र में नई ऊंचाइयों को छुएगा।

कुलपति, लेफ्टिनेंट जनरल डॉ बिपिन पुरी ने कहा, यह उत्तर प्रदेश सरकार के सक्षम मार्गदर्शन में सभी डॉक्टरों, इंजीनियरों और उत्‍तर प्रदेश राजकीय निर्माण निगम के अधिकारियों के संयुक्त प्रयास और समर्पण का परिणाम है।

उन्‍होंने बताया कि 320 बेड में से 100 बेड आईसीयू सुविधा को चलाने के लिए समर्पित हैं। इनमें 6-6 पीआईसीयू और एनआईसीयू बेड हैंहैं जिससे शिशुओं के संक्रमित होने की स्थिति में उनका बेहतर इलाज हो सके।

उन्‍होंने बताया कि नए कोविड अस्पताल में 4 ऑपरेशन थिएटर और एक डिलीवरी रूम है। इसके अलावा हमारे पास पैथोलॉजी, माइक्रोबायोलॉजी लैब्स, सीटी, एक्स-रे और अल्ट्रासाउंड जैसी जांचें एक ही छत के नीचे करने की सुविधाएं उपलब्‍ध हैं। इसके अतिरिक्त यहां कोरोना संक्रमित मरीजों के शवों को रखने के लिए एक कोल्ड रूम (मर्च्‍युरी) भी बनाई गई है, तथा अस्पताल में फार्मेसी, किचन, कोविड प्रोटोकॉल के साथ कपड़ों की धुलाई के लिए लॉन्ड्री भी है।

इस अवसर पर विधायी, न्याय और ग्रामीण अभियंत्रण सेवा मंत्री बृजेश पाठक तथा चिकित्सा शिक्षा और तकनीकी शिक्षा राज्य मंत्री संदीप सिंह भी उपस्थित रहे।