कोरोनावायरस को लेकर नेपाल के बॉर्डर पर भी कड़ी नजर, सभी संदिग्‍ध निगरानी में

-उत्‍तर प्रदेश सरकार ने कहा चौबीसों घंटे सातों दिन सक्रिय हैं कंट्रोल रूम

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। चीन से फैला कोरोनावायरस अब तक 24 देशों को अपनी चपेट में ले चुका है। विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन ने इसे महामारी घोषित कर दिया है। उत्तर प्रदेश सरकार ने भी इस बीमारी को लेकर रोकथाम के लिए कड़े कदम उठाए हैं।

स्‍वास्‍थ्‍य महानिदेशालय के अनुसार अब तक कोरोना वायरस से प्रभावित देशों से आए 29 यात्रियों लक्षणों के आधार पर चिन्हित किया गया है, इन्हें पूरी देखरेख में रखा जा रहा है, इन सभी को उनके घरों में आइसोलेट करके रखा गया है तथा सभी का स्वास्थ्य ठीक है।

स्‍वास्‍थ्‍य महानिदेशालय द्वारा जारी बुलेटिन में बताया गया है कि महाराजगंज, लखनऊ, गाजियाबाद और मुजफ्फरनगर से लिये गए एक-एक यात्री रक्त के नमूने एनआईवी पुणे जांच के लिए भेजे गये थे, लेकिन सभी की रिपोर्ट निगेटिव आयी है। चारों यात्रियों की हालत भी ठीक है।

बुलेटिन में कहा गया है कि इस कार्य में के लिए बनाए गए कंट्रोल रूम में चौबीसों घंटे सातों दिन निगरानी रखी जा रही है। उन्होंने बताया कि पूरे राज्य के अस्‍पतालों में 820 आइसोलेशन बेड आरक्षित रखे गए हैं प्रदेश के सभी हवाई अड्डों पर तथा नेपाल बॉर्डर पर लगने वाली 19 चेक पोस्ट पर आने वाली यात्रियों पर नजर रखी जा रही है। बॉर्डर पर एसएसबी और चिकित्‍सकों की टीम जांच में लगी हुई है।

बताया गया है कि अभी तक कोरोनावायरस का कोई भी केस नहीं सामने नहीं आया है। बुलेटिन में बताया गया है कि अब तक हवाई अड्डों पर 397 यात्रियों की जांच की गई है, जबकि सड़क मार्ग से बॉर्डर चेक पोस्ट पर 142569 यात्रियों की जांच की गई है। इसके अतिरिक्‍त्‍  नेपाल बॉर्डर से लगे हुए 836 गांवों में बैठक करके लोगों को जागरूक किया गया है।