श्‍वास रोगियों को आईसीयू के लिए अब कहीं नहीं पड़ेगा जाना, विभाग में ही बना ठिकाना

-केजीएमयू के रेस्‍परेटरी विभाग को प्‍लैटिनम जुबिली वर्षगांठ पर छह बेड के आईसीयू का तोहफा

-विभाग में मील का पत्‍थर साबित होगी आईसीयू की सुविधा : कुलपति

सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो

लखनऊ। किंग जॉर्ज चिकित्‍सा विश्‍वविद्यालय (केजीएमयू) के रेस्‍परेटरी मेडिसिन विभाग में छह बेड के आईसीयू वार्ड का लोकार्पण आज कुलपति ले.ज.डॉ बिपिन पुरी ने किया। कुलपति ने कहा कि रेस्परेटरी मेडिसिन विभाग में रेस्परेटरी मेडिसिन आई.सी.यू. एक मील का पत्थर सबित होगा। बढ़ते हुए शहरीकरण, प्रदूषण एवं धूम्रपान की वजह से स्वास्थ्य संबंधी बीमारियों में निरन्तर बढ़ोतरी हो रही है। जिससे श्वास रोग की गम्भीर बीमारियों से ग्रसित रोगियों को प्रायः संघन चिकित्सा उपलब्ध नहीं हो पाती है। जिसके अभाव में श्वास रोगियों को आसमयिक मृत्यु का सामना करना पड़ता है। वर्तमान में रेस्परेटरी मेडिसिन विभाग की ओपीडी में आने वाले कम गंभीर रोगियों के इलाज की सुविधा कस्तूरबा चेस्ट हॉस्पिटल, रेस्परेटरी मेडिसिन विभाग, में उपलब्ध थी, परन्तु अति गंभीर रोगियों को इलाज के लिए अन्य विभागों में भेजना पड़ता था, जिससे मरीजों को असुविधा होती थी।

रेस्परेटरी मेडिसिन विभाग के विभागाध्यक्ष, डॉ सूर्यकान्त ने बताया कि रेस्परेटरी मेडिसिन आई.सी.यू. के शुरू हो जाने से रेस्पिरेटरी मेडिसिन विभाग अति गंभीर रोगियों को सघन चिकित्सा उपलब्ध करा सकेगा। श्वास रोगों से गम्भीर रोगियों के लिए विभाग में अभी तक कोई आई.सी.यू. सुविधा नहीं थी। अतः इस आशय से यह श्वास रोगियों को समर्पित आई.सी.यू.प्रारम्भ किया गया है। अब सांस रोगियों को बिना किसी परेशानी के विभाग में इलाज संभव हो सकेगा।

ज्ञात हो कि रेस्परेटरी मेडिसिन विभाग अपना 75 वाँ प्लेटिनम जुबली स्थापना वर्ष (1946 में स्थापित) मना रहा है। ऐसे में इस अवसर पर रेस्परेटरी मेडिसिन विभाग में 75 शैक्षणिक एवं सामाजिक कार्यक्रम आयोजित करने का निश्चय किया है। आज का अनावरण समारोह इसी श्रृंखला की एक कड़ी है।

इस उद्घाटन समारोह में के.जी.एम.यू. के उपकुलपति, डा0 विनीत शर्मा, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक, डा0 एस.एन. संखवार, इमरजेन्सी मेडिसिन विभाग के विभागाध्यक्ष डा0 हैदर अब्बास एवं अन्य चिकित्सक मौजूद रहे। इस मौके पर रेस्परेटरी मेडिसिन के संकाय सदस्य डा0 आर.ए.एस. कुशवाहा, डा0 राजीवगर्ग, डा0 सन्तोष कुमार, डा0 अजय कुमार वर्मा, डा0 दर्शन कुमार बजाज, डा0 ज्योति बाजपेई व डा0 अंकित कटियार, रेजिडेन्ट डाक्टर्स, नर्सेज, पैरामेडिकल स्टाफ व समस्त कर्मचारी उपस्थित रहे।