बर्ड फ्लू : यूपी में भी मुर्गों व कौओं की मौत से हड़कम्‍प

-जांच रिपोर्ट के बाद ही पुष्टि होगी मौत के कारणों की

-पशुपालन निदेशक ने कहा, यूपी में हो रही सघन निगरानी


सेहत टाइम्‍स ब्‍यूरो
लखनऊ।
देश के कई इलाकों में बर्ड फ्लू फैलने की खबरों के बीच उत्‍तर प्रदेश के कानपुर में मुर्गे और सोनभद्र में कौओं की मौत के बाद उत्‍तर प्रदेश में भी हड़कम्‍प मच गया है, हालांकि जांच के बाद ही यह पुष्टि होगी कि मौत का कारण बर्ड फ्लू है या नहीं। इस बीच प्रदेश सरकार पूरी तरह नजर रखते हुए सावधानी बरत रही है।

 मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार कानपुर में प्राणि उद्यान में दो दिन के अंदर 10 जंगली मुर्गों की मौत हो गयी है जबकि सोनभद्र से भी नौ कौओं के मरने की खबर है। दोनों ही जगहों से नमूने जांच के लिए भेजे गए हैं, जांच रिपोर्ट आने पर ही तस्वीर साफ होगी। कानपुर- प्राणि उद्यान में बुधवार से गुरुवार तक 10 मुर्गों की मौत होने के बाद पक्षियों के शव और सॉइल के नमूने जांच के लिए नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ हाई सिक्यॉरिटी एनिमल डिजीज, भोपाल भेजे गए हैं।

इस बीच पशुपालन विभाग के निदेशक, रोग नियंत्रण एवं प्रक्षेत्र डॉ रामपाल सिंह के अनुसार देश के 5 राज्यों केरल, मध्यप्रदेश, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश एवं हरियाणा में बर्ड फ्लू के संक्रमण की स्थिति के कारण उत्तर प्रदेश में सघन निगरानी का कार्य किया जा रहा है। उत्तर प्रदेश के सीमावर्ती प्रदेशों की स्थिति का विभाग द्वारा निरन्तर अनुश्रवण किया जा रहा है। बर्ड फ्लू की विभीषिका को ध्यान में रखते हुए वाटर बाडीज के आसपास प्रवासी पक्षियों के आवागमन का भी अनुश्रवण किया जा रहा है।
उन्‍होंने बताया कि बर्ड फ्लू के संक्रमण से निपटने के लिए प्रदेश में प्रभावी तैयारियां की जा रही हैं। जनपदों में टास्क फोर्स की बैठकें आयोजित की जा रही है तथा रैपिड रिसपांस टीम के गठन की कार्यवाही की जा रही है। क्षेत्रीय स्तर पर अन्य सहयोगी विभागों, जैसे स्वास्थ्य विभाग, वन विभाग, ग्राम्य विकास विभाग, पंचायती राज विभाग, प्रशासनिक विभाग आदि से निरन्तर समन्वय स्थापित किया जा रहा है।
निदेशक, रोग नियंत्रण एवं प्रक्षेत्र ने बताया कि उक्त के साथ ही जनमानस में कोई विपरीत प्रभाव न हो इसलिए प्रचार-प्रसार का कार्य निरन्तर किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि आज गूगल मीट के माध्यम से वृहद प्रचार-प्रसार के लिए जनपदीय अधिकारियों को भी निर्देशित किया गया है तथा सभी जनपदों से निरन्तर सम्पर्क में रहने के लिए कन्ट्रोल रूम को क्रियाशील किया गया है। जनमानस से दूरभाष संख्या 0522-2741991, 0522-2741992 एवं टोल फ्री नं0  1800 180 5141 पर प्राप्त जानकारी पर तत्काल कार्यवाही किए जाने की व्यवस्था की गयी है।
श्री सिंह ने बताया कि पूर्ण रूप से पका हुआ चिकन मीट खाने अथवा उबला हुआ अण्डा खाने से बर्ड फ्लू का कोई भी खतरा नहीं है। वर्तमान में प्रदेश में किसी भी स्थान पर बीमारी के प्रकोप की सूचना नहीं है। पशुपालन विभाग, उ0प्र0 अपनी पूर्ण क्षमता एवं निष्ठा से बर्ड फ्लू का संक्रमण न हो, इसके लिए निरन्तर कार्य कर रहा है।