Wednesday , August 25 2021

डिप्‍थीरिया से मौतों के बाद स्‍वास्‍थ्‍य विभाग अलर्ट, 62 और गलघोटू पॉजिटिव

पश्चिमी उत्‍तर प्रदेश के 9 जिलों में डिप्‍थीरिया का प्रकोप, एक्‍शन टीम गठित

 

लखनऊ। पश्चि‍मी उत्तरप्रदेश के कई जिलो में डिप्थीरिया (गलघोटू) से होने वाली मौतों की रिपोर्ट के आने के बाद रेपिड रेस्पोंसेस (आरआरटी) टीमों को कार्यवाही के लिए सक्रिय किया गया है साथ ही आवश्‍यक दवाओं और टीके  की उपलब्धता भी सुनिश्चित की गयी है |

 

राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के निदेशक डॉ. मिथलेश चतुर्वेदी के मुताबिक़ “ स्वास्थ्य विभाग और विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा एक व्यापक टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है | मामलों की पहचान करने और तत्काल इलाज कर उन्हें दूर करने के तुरंत प्रयास किये जा रहे हैं |यह टीम मुरादाबाद, बुलंदशहर, बदायूं, मुजफ्फरनगर, शाहजहांपुर, लखीमपुर खीरी, सीतापुर, गौतम बुद्ध नगर और गाज़ियाबाद में डिप्थीरिया के मामलो में वृद्धि के कारणों का पता करेगी|

 

डॉ चतुर्वेदी ने कहा, “जिलों के मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को बीमारी के खिलाफ सतर्क कर दिया गया है और मामलों पर दैनिक रिपोर्ट भेजने के लिए कहा गया है”| स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के मुताबिक, 1 अक्टूबर से इन जिलों में एक गहन मामला खोज अभियान शुरू किया गया था, जिसके दौरान 206 संभावित लोगों में डिप्थीरिया के लक्षणों की पहचान की गई थी और उनके थ्रोट स्वेब एकत्रित किये गये जिनमें से 62 रोगियों के धनात्मक नमूने पाए गए |

 

अब तक, उत्तर प्रदेश के बदायूं से 2 और अलीगढ़, बुलंदशहर, हाथरस, कासगंज और गौतमबुद्ध नगर में 7 डिप्थीरिया की मौतों की सूचना मिली है। डॉ चतुर्वेदी ने कहा कि डिप्थीरिया पर मीडिया रिपोर्टों को संज्ञान में लेते हुए, स्वास्थ्य विभाग की एक टीम ने प्रभावित जिलों का दौरा किया और 7 साल से कम उम्र के सभी बच्चों का टीकाकरण करने के लिए एक अभियान शुरू किया।

 

प्रदेश सरकार द्वारा उत्तर प्रदेश के जनपद मुरादाबाद के जिला चिकित्सालय को सेंटर फार इन्फेकशियन डिसीस के रूप में विकसित कर रही है जो पश्चिमी उत्तर प्रदेश में लोगों की चिकित्सा आवश्यकताओं को पूरा करेगी।

 

डब्ल्यूएचओ के अनुसार, डिप्थीरिया एक संक्रामक बीमारी है जो जीवाणु कोरिनेबैक्टीरियम के कारण होती है, जो मुख्य रूप से गले और ऊपरी वायुमार्ग को संक्रमित करती है, और अन्य अंगों को प्रभावित करने वाले ज़हर को उत्पन्न करती है।

 

यूपी के राज्य प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ एपी चतुर्वेदी ने कहा की , “प्रबंधनीय होने के बावजूद, बच्चों में उच्च मृत्यु दर के साथ 10 प्रतिशत मामलों में डिप्थीरिया घातक हो सकता है, और टीकाकरण इन रोगों की रोकथाम का अच्छा उपाय है |

 

डॉ.संजय निरंजन, वरिष्ठ कार्यकारिणी, इंडियन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स, यूपी ने कहा: “डिप्थीरिया के मामलों में सर्फिंग होने पर केवल दो परिदृश्य संभव हैं। सबसे पहले, बच्चों को टीका नहीं किया गया है या उन्हें सभी खुराक नहीं मिली हैं।

 

डब्ल्यूएचओ के अनुसार, डिप्थीरिया ज़हर एक गले में ‘मृत-ऊतक झिल्ली का निर्माण’ ट्रिगर करता है, टॉन्सिल जो सांस लेने और निगलने में मुश्किल पैदा करता है। शुरुआत में इसे कम ग्रेड बुखार और सूजन ग्रंथियों द्वारा चिह्नित किया जाता है।

 

डब्ल्यूएचओ डिप्थीरिया को हराने के लिए तीन प्राथमिक और तीन बूस्टर खुराक की सिफारिश करता है। लेकिन भारत में, रूटीन टीकाकरण के लिए राष्ट्रीय कार्यक्रम के तहत तीन प्राथमिक और दो बूस्टर खुराक प्रदान किए जाते हैं।

 

जबकि प्राथमिक खुराक छठे, दसवें और 14 वें सप्ताह में दी जाती हैं, बूस्टर खुराक 18 महीने और पांच साल में दी जाती है। वही दूसरी तरफ, उपचार में विषैले पदार्थों के प्रभाव को निष्क्रिय करने के साथ-साथ बैक्टीरिया को मारने के लिए एंटीबायोटिक्स को निष्क्रिय करने के लिए डिप्थीरिया एंटीटॉक्सिन को शामिल किया है |

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com