चेहरे-गर्दन की झुरियों को बिना सर्जरी खत्‍म करने के तरीके बताये

ऑल इंडिया कॉस्‍मेटोलॉजिस्‍ट्स एंड ब्‍यूटीशियंस एसोसिएशन के वार्षिक सम्‍मेलन में लगा देश-विदेश की सौंदर्य विशेषज्ञों का जमावड़ा

लखनऊ। महिलाओं के गले, चेहरे आदि पर पड़ती झुर्रियां हों, या झड़ते बाल, दुल्‍हन का मेकअप हो या फि‍र‍ आकर्षक हेयर स्‍टाइल, दाग-धब्‍बे, मस्‍से हटाने के तरीके  इन सबके बारे में स्‍वास्‍थ्‍य के दृष्टिकोण से सुरक्षित तरीकों के बारे में देश-विदेश के सौंदर्य और चिकित्‍सा विशेषज्ञों का रविवार को लखनऊ में जमावड़ा लगा।

 

ऑल इंडिया कॉस्‍मेटोलॉजिस्‍ट्स एंड ब्‍यूटीशियंस एसोसिएशन (एआईसीबीए) अर्थात सौंदर्य मित्र द्वारा होटल क्‍लार्क्‍स अवध में आयोजित वार्षिक सम्‍मेलन की आयोजक डॉ रमा श्रीवास्‍तव ने बताया कि बढ़ती उम्र के साथ महिलाओं के गले पर पड़ने वाली झुर्रियां उनको परेशान कर देती हैं ऐसे में खान-पान में बदलाव कर महिलाएं इस समस्या से निजात पा सकती हैं।

 

उन्‍होंने खाने में हरी सब्जियों के साथ ही फल खायें और रोजाना आठ से दस ग्लास पानी पीयें। इस‍के अलावा योगा और नियमित एक्सरसाइज भी झुर्रियों को रोकने में कारगर है। डॉ रमा श्रीवास्‍‍तव ने बताया कि कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में महापौर संयुक्ता भाटिया और राज्यमंत्री नानक लखमानी मौजूद रहे।

लंदन से आयीं नेहा राडिया ने बताया कि किस तरह से फाइब्रोब्‍लास्‍ट विधि से ट्रीटमेंट करके मस्‍से आदि को हटाया जा सकता है तथा बिना किसी सर्जरी के चेहरे की त्‍वचा को टाइट बनाया जाता है। उन्‍होंने बताया कि इस विधि में त्‍वचा को स्‍कैब करते हैं, ऐसा करने से एक प्रकार की गैस निकलती है जिससे त्‍वचा टाइट हो जाती है। इसे उन्‍होंने फोटो के माध्‍यम से समझाया। उन्‍होंने बताया कि यूं तो यह काम एक सिटिंग में हो जाता है, लेकिन किसी-किसी में इसे तीन सिटिंग तक ले जाना पड़ता है।

 

उन्‍होंने बताया कि इसी प्रकार यदि किसी कारणवश आईब्रो के बाल कम हो गये हों तो माइक्रोब्‍लेडिंग विधि से उसे सामान्‍य बनाया जाता है। इसे भी उन्‍होंने फोटो के माध्‍यम से बताया।

 

कार्यक्रम में उपस्थित ब्‍लॉसम कोचर ने झड़ चुके बालों के बारे में बताया कि यदि जड़ें बाकी हैं तो फि‍र से बाल उगाना मुश्किल नही हैं। उन्‍होंने बताया कि वे पौधों से तैयार हुए तेल से बाल उगाती हैं। उन्‍होंने बताया कि इन प्राकृतिक तेलों में पानी या अन्‍य तेल मिलाकर लगाना होता है। इसके परिणाम के बारे में उन्‍होंने बताया कि इसका असर पांच माह में आना शुरू हो जाता है।

 

कार्यक्रम में डॉ संजय अरोरा ने रक्‍तचाप को नियंत्रित रखने के बारे में बताया। डॉ मनोज श्रीवास्‍तव ने डेंटल रिजूवेनेशन के तरीकों पर पैनल डिबेट में प्रो विजय कुमार, डॉ अंकित बहल, डॉ नलिनी मिश्रा, डॉ अमन भमरी, प्रो ॠचा खन्‍ना तथा स्मि‍ता सिंह के साथ चर्चा की।

 

मुम्‍बई से शाहनवाज खान ने ब्‍यूटी सलोन को सुसज्जित करने के तरीके तथा बॉलीवुड के हरीश भाटिया ने हेयर कटिंग के नये तरीके सिखाये। फि‍टनेस के तौर-तरीकों पर संदीप आहूजा ने प्रस्‍तुति दी। मिसेज इंडिया 2018 की विजेता डॉ संगीता सिंह मुख्‍य आकर्षण का केंद्र रहीं, इनका मेकअप चंडीगढ़ से आयी सौंदर्य विशेषज्ञ रुचि अग्रवाल द्वारा किया गया।